Home राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश लॉकडाउन के बाद अयोध्या पहुंचे CM योगी, रामलला को अस्थायी मंदिर में...

लॉकडाउन के बाद अयोध्या पहुंचे CM योगी, रामलला को अस्थायी मंदिर में किया शिफ्ट

48

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला को टिन शेड से निकालकर फाइबर के बने अस्थायी ढांचे (मंदिर) में विराजित किया

CM योगी आदित्यनाथ ने मंदिर के निर्माण के लिए 11 लाख रुपये का चेक भी दिया. योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी.रामलला आज सुबह अस्थायी  मंदिर में शिफ्ट हो गए. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला को टिन शेड से निकालकर फाइबर के बने अस्थायी ढांचे (मंदिर) में विराजित किया. जब तक मंदिर निर्माण का काम पूरा नहीं हो जाता है, रामलला विराजमान इसी मंदिर में रहेंगे. पीएम मोदी के लॉकडाउन के ऐलान के कुछ घंटों बाद सीएम योगी आदित्यनाथ इस कार्यक्रम में पहुंचे. प्रधानमंत्री ने कोरोनावायरस के खतरे के देखते हुए देशभर में बुधवार से बंदी का ऐलान किया है. करीब 15-20 लोग इस दौरान मौजूद रहे. अयोध्या प्रशासन ने दो अप्रैल तक तीर्थस्थल में प्रवेश पर रोक लगा दी है. 

कहा जा रहा था कि कोरोनावायरस के खतरे के बीच इस समारोह को टाला जा सकता है. हालांकि, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद इस कार्यक्रम में पहुंचने का फैसला किया. मौके से मिली तस्वीरों में देखा जा सकता है कि मुख्यमंत्री कई संतों की मौजूदगी में पूजा-पाठ करते हुए नजर आ रहे हैं. इस दौरान अयोध्या के डीएम और पुलिस प्रमुख समेत अन्य अधिकारी भी वहां उपस्थित रहे.

CM योगी आदित्यनाथ ने मंदिर के निर्माण के लिए 11 लाख रुपये का चेक भी दिया. योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- “अयोध्या करती है आह्वान… भव्य राम मंदिर के निर्माण का पहला चरण आज सम्पन्न हुआ, मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम त्रिपाल से नए आसन पर विराजमान… मानस भवन के पास एक अस्थायी ढांचे में ‘रामलला’ की मूर्ति को स्थानांतरित किया. भव्य मंदिर के निर्माण हेतु ₹11 लाख का चेक भेंट किया.”

कोरोनावायरस के संक्रमण को देखते हुए पीएम मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करते हुए कहा कि जनता ने कर्फ्यू को सफल बनाया है. ऐसा नहीं है कि जो देश प्रभावित हैं वह प्रयास नहीं कर रहे हैं और न ऐसा कि वहां संसाधनों की कमी है. इन देशों को दो महीने के अध्ययन से यही निष्कर्ष निकल रहा है कि एक मात्र ही रास्ता है सोशल डिस्टैसिंग यानी अपने घरों में बंद रहना इसके अलावा कोई और रास्ता नहीं है. कोरोना को लेकर ऐसी लापरवाही भारत को बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here